Durga

Durga in Hinduism is the eternal ever-existent mother. She is the invincible or unconquerable mother; she is seen as having ten arms and ridding either a tiger or a lion. She is seen as destroying evil and at the same time pouring her benevolent energy over everything in existence. She is also seen as invincible feminine warrior aspect of the divine or the universal energy. Durga is prayed with enthusiasm by people all over India. Her victory over evil is celebrated as Vijayadashmi.She is worshipped in various states of India in various forms but with equal enthusiasm and devotion. This is the Aarti or prayer in praise of Durga,anyone reciting this prayer with devotion and sincerity and a clean heart is sure to reap all the benefits and rewards of the universal mother which are uncountable.

Goddess Durga a super powerful deity ‘ Shakti’ in Hindu mythology is worship in various forms corresponding to her to aspects benevolence and fierceness. She is Uma, “glow”; Gauri, “white or brilliant”; Parvati, “the mountaineer”; and Jagatmata, “the-mother-of-the-world” in her milder guise The terrible appearance are Durga “the inaccessible”; Kali, “the black”; Chandi, “the fierce”; and Bhairavi, “the terrible.”

दुर्गा हिन्दुओं की प्रमुख देवी हैं जिन्हें केवल देवी और शक्ति भी कहते हैं। शाक्त सम्प्रदाय की वह मुख्य देवी हैं जिनकी तुलना परम ब्रह्म से की जाती है। दुर्गा को आदि शक्ति, प्रधान प्रकृति, गुणवती माया, बुद्धितत्व की जननी तथा विकार रहित बताया गया है। वह अंधकार व अज्ञानता रुपी राक्षसों से रक्षा करने वाली तथा कल्याणकारी हैं। उनके बारे में मान्यता है कि वे शान्ति, समृद्धि तथा धर्म पर आघात करने वाली राक्षसी शक्तियों का विनाश करतीं हैं।[3]

देवी दुर्गा का निरूपण सिंह पर सवार एक निर्भय स्त्री के रूप में की जाती है। दुर्गा देवी आठ भुजाओं से युक्त हैं जिन सभी में कोई न कोई शस्त्रास्त्र होते है। उन्होने महिषासुर नामक असुर का वध किया। महिषासुर (= महिष + असुर = भैंसा जैसा असुर) करतीं हैं। हिन्दू ग्रन्थों में वे शिव की पत्नी दुर्गा के रूप में वर्णित हैं। जिन ज्योतिर्लिंगों मैं देवी दुर्गा की स्थापना रहती है उनको सिद्धपीठ कहते है। वँहा किये गए सभी संकल्प पूर्ण होते है।

हिन्दुओं के शाक्त साम्प्रदाय में भगवती दुर्गा को ही दुनिया की पराशक्ति और सर्वोच्च देवता माना जाता है (शाक्त साम्प्रदाय ईश्वर को देवी के रूप में मानता है)। वेदों में तो दुर्गा का व्यापाक उल्लेख है, किन्तु उपनिषद में देवी “उमा हैमवती” (उमा, हिमालय की पुत्री) का वर्णन है। पुराण में दुर्गा को आदिशक्ति माना गया है। दुर्गा असल में शिव की पत्नी आदिशक्ति का एक रूप हैं, शिव की उस पराशक्ति को प्रधान प्रकृति, गुणवती माया, बुद्धितत्व की जननी तथा विकाररहित बताया गया है। एकांकी (केंद्रित) होने पर भी वह माया शक्ति संयोगवश अनेक हो जाती है। उस आदि शक्ति देवी ने ही सावित्री(ब्रह्मा जी की पहली पत्नी), लक्ष्मी, और पार्वती(सती) के रूप में जन्म लिया और उसने ब्रह्मा, विष्णु और महेश से विवाह किया था। तीन रूप होकर भी दुर्गा (आदि शक्ति) एक ही है।

देवी दुर्गा के स्वयं कई रूप हैं (सावित्री, लक्ष्मी एव पार्वती से अलग)। मुख्य रूप उनका “गौरी” है, अर्थात शान्तमय, सुन्दर और गोरा रूप। उनका सबसे भयानक रूप काली है, अर्थात काला रूप। विभिन्न रूपों में दुर्गा भारत और नेपाल के कई मन्दिरों और तीर्थस्थानों में पूजी जाती हैं। कुछ दुर्गा मन्दिरों में पशुबलि भी चढ़ती है। भगवती दुर्गा की सवारी शेर है।

Durga Maa Aarti English Translation

Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l Nis Din Tumko Dhyaavat, Hari Brahma Shivri ll
Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l
Maang Sindoor Biraajat, Teeko Mragmadko l Ujjval Se Dou Naina, Chandravadan Neeko ll
Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l
Kanak Samaan Kalevar, Raktaambar Raaje l Rakt Pushp Gal Mala, Kanthan par Saaje ll
Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l
Kehari Vaahan Raajat, Khadg Khappar Dhaari l Sur Nar Munijan Sevat, Tinke Dukhhaari ll
Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l
Kaanan Kundal Shobhit, Naasaagre Moti l Kotik Chandr Divaakar, Raajat Sam Jyoti ll
Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l
Shumbh-Nishumbh Vidaare, Mahishasur Ghaati l Dhumravilochan Naina, Nisdin Madmaati ll
Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l
Chand-Mund Sanhaare, Shonit Beej Hare l Madhu-Kaitabh Dou Maare, Sur Bhayheen Kare ll
Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l
Brahmaani, Rudraani, Tum Kamala Raani l Aagam-Nigam Bakhaani, Tum Shiv Patraani ll
Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l
Chaunsath Yogini Gaavat, Nratya Karat Bhairoo l Baajat Taal Mradanga, Aru Baajat Damroo ll
Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l
Tum Ho Jag Ki Maata, Tum Hi Ho Bharta l Bhaktan Ki Dukh Harta, Sukh Sampati Karta ll
Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l
Bhuja Chaar Ati Shobhit, Var Mudra Dhaari l Manvaanchhit Phal Paavat, Sevat Nar Naari ll
Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l
Kanchan Thaal Viraajat, Agar Kapoor Baati l Maalketu Men Raajat, Koti Ratan Jyoti ll
Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l
Shri Ambe Ji Ki Aarti, Jo Koi Nar Gaave l Kahat Shivanand Swami, Sukh Sampati Paave ll
Jay Ambe Gauri, Maiya Jay Shyaama Gauri l

दुर्गा जी की आरती (Durga Aarti in Hindi)

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी तुम को निस दिन ध्यावत
मैयाजी को निस दिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिवजी ।| जय अम्बे गौरी ॥

माँग सिन्दूर विराजत टीको मृग मद को |मैया टीको मृगमद को
उज्ज्वल से दो नैना चन्द्रवदन नीको|| जय अम्बे गौरी ॥

कनक समान कलेवर रक्ताम्बर साजे| मैया रक्ताम्बर साजे
रक्त पुष्प गले माला कण्ठ हार साजे|| जय अम्बे गौरी ॥

केहरि वाहन राजत खड्ग कृपाण धारी| मैया खड्ग कृपाण धारी
सुर नर मुनि जन सेवत तिनके दुख हारी|| जय अम्बे गौरी ॥

कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती| मैया नासाग्रे मोती
कोटिक चन्द्र दिवाकर सम राजत ज्योति|| जय अम्बे गौरी ॥

शम्भु निशम्भु बिडारे महिषासुर घाती| मैया महिषासुर घाती
धूम्र विलोचन नैना निशदिन मदमाती|| जय अम्बे गौरी ॥

चण्ड मुण्ड शोणित बीज हरे| मैया शोणित बीज हरे
मधु कैटभ दोउ मारे सुर भयहीन करे|| जय अम्बे गौरी ॥

ब्रह्माणी रुद्राणी तुम कमला रानी| मैया तुम कमला रानी
आगम निगम बखानी तुम शिव पटरानी|| जय अम्बे गौरी ॥

चौंसठ योगिन गावत नृत्य करत भैरों| मैया नृत्य करत भैरों
बाजत ताल मृदंग और बाजत डमरू|| जय अम्बे गौरी ॥

तुम हो जग की माता तुम ही हो भर्ता| मैया तुम ही हो भर्ता
भक्तन की दुख हर्ता सुख सम्पति कर्ता|| जय अम्बे गौरी ॥

भुजा चार अति शोभित वर मुद्रा धारी| मैया वर मुद्रा धारी
मन वाँछित फल पावत देवता नर नारी|| जय अम्बे गौरी ॥

कंचन थाल विराजत अगर कपूर बाती| मैया अगर कपूर बाती
माल केतु में राजत कोटि रतन ज्योती|| बोलो जय अम्बे गौरी ॥

माँ अम्बे की आरती जो कोई नर गावे| मैया जो कोई नर गावे
कहत शिवानन्द स्वामी सुख सम्पति पावे|| जय अम्बे गौरी ॥

Durga Chalisa (श्री दुर्गा चालीसा)

Durga Chalisa

Namo Namo Durge Sukh karani, Namo Namo ambe Dukh harani.
Nirakar hai jyoti tumhari, Tihun lok pheli ujayari.
Shashi lalat mukh mahavishala, Netra lal bhrikutee vikarala.
Roop Matu ko adhika suhave, Daras karat jan ati sukh pave.
Tum sansar shakti laya kina, Palan hetu anna dhan dina.
Annapurna hui jag pala, Tumhi adi sundari Bala.
Pralaya kala sab nashan hari, Tum gauri Shiv-Shankar pyari.
Shiv yogi tumhre guna gaven, Brahma Vishnu tumhen nit dhyaven.

Roop Saraswati ko tum dhara, De subuddhi rishi munina ubara.
Dharyo roop Narsimha ko amba, Pragat bhayin phar kar khamba.
Raksha kari Prahlaad bachayo, Hiranakush ko swarga pathayo.
Lakshmi roop dharo jag mahin, Shree Narayan anga samihahin.
Ksheer sindhu men karat vilasa, Daya Sindhu, deeje man asa.
Hingalaja men tumhin Bhavani, Mahima amit na jet bakhani.
Matangi Dhoomavati Mata, Bhuvneshwari bagala sukhdata.
Shree Bhairav lara jog tarani, Chhinna Bhala bhav dukh nivarani.
Kehari Vahan soh Bhavani, Langur Veer Chalat agavani.
Kar men khappar khadag viraje, Jako dekh kal dan bhaje.
Sohe astra aur trishoola, Jase uthata shatru hiya shoola.
Nagarkot men tumhi virajat, Tihun lok men danka bajat.
Shumbhu Nishumbhu Danuja tum mare, Rakta-beeja shankhan samhare.
Mahishasur nripa ati abhimani, Jehi agha bhar mahi akulani.
Roop karal Kalika dhara, Sen Sahita tum tin samhara.
Pan garha Santan par jab jab, Bhayi sahaya Matu tum tab tab.
Amarpuni aru basava loka, Tava Mahirna sab rahen asoka.
Jwala men hai jyoti tumhari, Tumhen sada poojen nar nari.
Prem bhakti se Jo yash gave, Dukh-daridra nikat nahin ave.
Dhyave tumhen jo nar man laee, Janam-maran tako chuti jaee.
Jogi sur-muni kahat pukari, Jog na ho bin shakti tumhari.
Shankar Aacharaj tap keenhon, Kam, krodha jeet sab leenhon.
Nisidin dhyan dharo Shankar ko, Kahu kal nahini sumiro tum ko.
Shakti roop ko maran na payo, Shakti gayi tab man pachitayo.
Sharnagat hui keerti bakhani, Jai jai jai Jagdamb Bhavani.
Bhayi prasanna Aadi Jagdamba, Dayi shakti nahin keen vilamba.
Mokon Matu kashta ati ghero, Tum bin kaun hare dukh mero.
Aasha trishna nipat sataven, Moh madadik sab binsaven.
Shatru nash keeje Maharani, Sumiron ekachita tumhen Bhavani.
Karo kripa Hey Matu dayala, Riddhi-Siddhi de karahu nihala.
Jab lagi jiyoon daya phal paoon, Tumhro yash men sada sunaoon.
Durga Chalisa jo gave, Sab sukh bhog parampad pave.

श्री दुर्गा चालीसा

नमो नमो दुर्गे सुख करनी। नमो नमो अम्बे दुःख हरनी॥
निराकार है ज्योति तुम्हारी। तिहूँ लोक फैली उजियारी॥
शशि ललाट मुख महाविशाला। नेत्र लाल भृकुटि विकराला॥
रूप मातु को अधिक सुहावे। दरश करत जन अति सुख पावे॥
तुम संसार शक्ति लय कीना। पालन हेतु अन्न धन दीना॥
अन्नपूर्णा हुई जग पाला। तुम ही आदि सुन्दरी बाला॥
प्रलयकाल सब नाशन हारी। तुम गौरी शिवशंकर प्यारी॥
शिव योगी तुम्हरे गुण गावें। ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें॥
रूप सरस्वती को तुम धारा। दे सुबुद्धि ऋषि-मुनिन उबारा॥
धरा रूप नरसिंह को अम्बा। प्रगट भईं फाड़कर खम्बा॥
रक्षा कर प्रह्लाद बचायो। हिरण्याक्ष को स्वर्ग पठायो॥
लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं। श्री नारायण अंग समाहीं॥
क्षीरसिन्धु में करत विलासा। दयासिन्धु दीजै मन आसा॥
हिंगलाज में तुम्हीं भवानी। महिमा अमित न जात बखानी॥
मातंगी अरु धूमावति माता। भुवनेश्वरी बगला सुख दाता॥
श्री भैरव तारा जग तारिणी। छिन्न भाल भव दुःख निवारिणी॥
केहरि वाहन सोह भवानी। लांगुर वीर चलत अगवानी॥
कर में खप्पर-खड्ग विराजै। जाको देख काल डर भाजे॥
सोहै अस्त्र और त्रिशूला। जाते उठत शत्रु हिय शूला॥
नगर कोटि में तुम्हीं विराजत। तिहुंलोक में डंका बाजत॥
शुम्भ निशुम्भ दानव तुम मारे। रक्तबीज शंखन संहारे॥
महिषासुर नृप अति अभिमानी। जेहि अघ भार मही अकुलानी॥
रूप कराल कालिका धारा। सेन सहित तुम तिहि संहारा॥
परी गाढ़ सन्तन पर जब-जब। भई सहाय मातु तुम तब तब॥
अमरपुरी अरु बासव लोका। तब महिमा सब रहें अशोका॥
ज्वाला में है ज्योति तुम्हारी। तुम्हें सदा पूजें नर-नारी॥
प्रेम भक्ति से जो यश गावै। दुःख दारिद्र निकट नहिं आवें॥
ध्यावे तुम्हें जो नर मन लाई। जन्म-मरण ताकौ छुटि जाई॥
जोगी सुर मुनि कहत पुकारी। योग न हो बिन शक्ति तुम्हारी॥
शंकर आचारज तप कीनो। काम अरु क्रोध जीति सब लीनो॥
निशिदिन ध्यान धरो शंकर को। काहु काल नहिं सुमिरो तुमको॥
शक्ति रूप को मरम न पायो। शक्ति गई तब मन पछितायो॥
शरणागत हुई कीर्ति बखानी। जय जय जय जगदम्ब भवानी॥
भई प्रसन्न आदि जगदम्बा। दई शक्ति नहिं कीन विलम्बा॥
मोको मातु कष्ट अति घेरो। तुम बिन कौन हरै दुःख मेरो॥
आशा तृष्णा निपट सतावे। मोह मदादिक सब विनशावै॥
शत्रु नाश कीजै महारानी। सुमिरौं इकचित तुम्हें भवानी॥
करो कृपा हे मातु दयाला। ऋद्धि-सिद्धि दे करहु निहाला॥
जब लगि जियउं दया फल पाऊं। तुम्हरो यश मैं सदा सुनाऊं॥
दुर्गा चालीसा जो नित गावै। सब सुख भोग परमपद पावै॥
देवीदास शरण निज जानी। करहु कृपा जगदम्ब भवानी॥

© Sadhana Mandir Atlanta 2019. All Rights Reserved   |  Website Design & Development